My photo

Writer, Father. Entrepreneur. Bum. Atheist. Recluse. Garhwali. Foodie. Downloader. Drifter. In no particular order.

29.8.14

भेड़िया उवाच

तुम मांस देने वाली भेड़ हो. ये लो भेड़िये की खाल और हथियार. उस काल्पनिक सीमा पर जाकर दूसरी भेड़ों, हमारा मतलब भेड़ियों, से अपनी भेड़ों की रक्षा करो. और बाकी तुम सब ऊन देने वाली भेड़ों, जाओ और ऑफिस और कारखानों में जुत जाओ, शादी करो, नयी भेड़ों की नसल तैयार करो. मांस वाली भेड़ों- ये लो रम और देशप्रेम का कॉकटेल. ऊन वाली भेड़ों- ये लो टीवी. ये चीजें तुम्हें अपने भेड़त्व के बारे में ज्यादा विचार करने का मौका नहीं देंगी.

तुम्हारे नेता
भेड़िये

No comments: